अंतरिक्ष में तारों के बीच भटकते हुए ग्रह अपने आप कैसे खत्म हो जाते हैं ?

    Date:

    म सौर मंडल के बाहर लगभग 5,000 ग्रहों के बारे में जानते हैं। अगर आप कल्पना करते हैं कि दूर की इस दुनिया या एक्सोप्लैनेट (सौर मंडल के बाहर के ग्रह) का वजूद कैसा होगा तो आपके दिमाग में किसी मूल तारे या एक से अधिक तारों की छवि उभरेगी, विशेष रूप से यदि आप ‘स्टार वार्स’ फिल्मों के प्रशंसक हैं।

    वैज्ञानिकों ने हाल में पता लगाया है कि जितना हमने सोचा था उससे कहीं अधिक ग्रह अपने आप अंतरिक्ष में भटक रहे हैं। ये बर्फीले ‘‘फ्री-फ्लोटिंग प्लैनेट’’ अथवा एफएफपी हैं। लेकिन वे अपने आप कैसे समाप्त हो जाते हैं और ऐसे ग्रह कैसे बनते हैं? इसके बारे में हमें वे बता सकते हैं।

    अध्ययन करने के लिए अधिक से अधिक एक्सोप्लैनेट खोजने से जैसा कि हमने उम्मीद की होगी, हमारी समझ को व्यापक किया है कि ग्रह क्या है। विशेष रूप से ग्रहों और ‘‘ब्राउन ड्वार्फ्स’’ के बीच की रेखा तेजी से धुंधली होती गई है। ‘‘ब्राउन ड्वार्फ्स’’ ऐसे ठंडे तारे होते हैं जो अन्य तारों की तरह हाइड्रोजन को ‘फ्यूज’ नहीं कर सकते। क्या तय करता है कि कोई वस्तु एक ग्रह है या ‘‘ब्राउन ड्वार्फ्स’’, यह लंबे समय से बहस का विषय रहा है। क्या यह द्रव्यमान का सवाल है? यदि वे परमाणु संलयन से गुजर रहे हैं तो क्या वस्तुएं ग्रह नहीं रह जाती हैं? अथवा, जिस तरह से वस्तु का गठन हुआ वह सबसे महत्वपूर्ण है?

    लगभग आधे तारे और ‘‘ब्राउन ड्वार्फ्स’’ अलग-थलग रहते हैं, बाकी कई तारा सौर मंडल में मौजूद हैं। हम आमतौर पर ग्रहों को एक तारे के चारों ओर कक्षा में अधीनस्थ वस्तुओं के रूप में सोचते हैं। दूरबीन तकनीक में सुधार ने हमें अंतरिक्ष में छोटी और अलगाव में रह रही वस्तुओं को देखने में सक्षम बनाया है, जिसमें एफएफपी भी शामिल है। ये एफएफपी ऐसी वस्तुएं हैं जिनका द्रव्यमान या तापमान बहुत कम होता है जिन्हें ‘‘ब्राउन ड्वार्फ’’ माना जाता है।

    - Advertisement -

    हम अभी भी यह नहीं जानते हैं कि वास्तव में ये वस्तुएं कैसे बनीं। तारे और ‘‘ब्राउन ड्वार्फ’’ तब बनते हैं जब अंतरिक्ष में धूल और गैस का एक क्षेत्र अपने आप गिरने लगता है। यह क्षेत्र सघन हो जाता है, इसलिए गुरुत्वाकर्षण की एक प्रक्रिया में अधिक से अधिक सामग्री उस पर गिरती रहती है। आखिर गैस का यह गोला परमाणु संलयन शुरू करने के लिए गर्म होता जाता है। एफएफपी एक ही तरह से बन सकते हैं, लेकिन फ्यूजन शुरू करने जितना आकार बड़ा नहीं होता है। यह भी संभव है कि ऐसा ग्रह किसी तारे के चारों ओर कक्षा में जीवन शुरू कर सकता है, लेकिन किसी बिंदु पर अंतरताराकीय स्थान से बाहर हो जाता है।

    तारों के बीच भटकते ग्रह को कैसे पहचानें?

    इस तरह के ग्रहों का पता लगाना मुश्किल होता है क्योंकि वे अपेक्षाकृत छोटे और ठंडे होते हैं। आंतरिक ऊष्मा का उनका एकमात्र स्रोत नष्ट होने की प्रक्रिया से बची शेष ऊर्जा है जिसके परिणामस्वरूप उनका निर्माण हुआ। ग्रह जितना छोटा होगा, उतनी ही तेजी से ऊष्मा विकिरित होगी। अंतरिक्ष में ठंडी वस्तुएं कम प्रकाश उत्सर्जित करती हैं और वे जो प्रकाश उत्सर्जित करती हैं वह लाल रंग का होता है।

    एफएफपी को सीधे देखने के लिए सबसे अच्छी रणनीति शुरुआती अवस्था में उनका पता लगाना है क्योंकि इस दौरान सबसे ज्यादा चमक रहती है। हाल के अध्ययन में शोधकर्ताओं ने इसी तरीके से भटकने वाले ग्रहों का पता लगाया है।

    इन भटकते ग्रहों को पूरी तरह से समझने के लिए हमें अभी भी एक लंबा रास्ता तय करना है। दूरबीन की नयी तकनीक उपलब्ध होने के साथ ही ग्रहों को और अधिक विस्तृत जांच के लिए फिर से देखा जा सकता है। इससे ऐसे ग्रहों की उत्पत्ति के बारे में अधिक जानकारी मिल सकती है।

    - Advertisement -

    – जोआना बारस्टो, अर्नेस्ट रदरफोर्ड फेलो, द ओपन यूनिवर्सिटी

    Subscribe to our Newsletter

    To be updated with all the latest news, offers and special announcements.

    कोई जवाब दें

    कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
    कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

    पोस्ट साझा करें:

    एक नजर इन पर भी...

    समाज की होनहार प्रतिभा उत्तरप्रदेश में आयुषी मूलेवा ने जीता सिल्वर व ब्रांन्ज मेडल

    लखनऊ/इंदौर। कराटे एसोसिएशन ऑफ इंडिया की ऑल इंडिया आमंत्रित नेशनल कराटे चैंपियनशिप अक्टूबर 2022 / 6वी वॉरियर चैम्पियनशिप 8 अक्टूबर से 9 अक्टूबर 2022...
    अक्षत, कलश का हुआ स्वागत

    अक्षत कलश का हुआ स्वागत

    बेंगलूरु| भगवान श्री रामजी की पावन जन्मभूमि अयोध्या से आए अक्षत कलश का रविवार को सीरवी समाज सुकंदकट्टे आईमाता बडेर में भव्य स्वागत हुआ|...
    हरियाली अमावस्या पर कावेरी संगम में महिलाओं ने लगाई पवित्र डुबकी

    हरियाली अमावस्या पर कावेरी संगम में महिलाओं ने लगाई पवित्र डुबकी

    बेंगलूरु| सावन मास की हरियाली अमावस्या के उपलक्ष में सीरवी समाज की महिलाओं ने श्रीरंगपट्टनम त्रिवेणी संगम में पवित्र स्नान किया तथा भगवान महादेव...

    पाली में पटवारी व दलाल 30 हजार रुपये रिश्वत लेते रंगे हाथों गिरफ्तार

    पाली। राजस्थान के पाली में भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो (एसीबी) की टीम ने एक पटवारी व उसके दलाल को 30 हजार रुपये की कथित रिश्वत...
    श्री आईजी स्पोर्ट्स क्लब केंगेरी (ए) बनी चैम्पियन

    श्री आईजी स्पोर्ट्स क्लब केंगेरी (ए) बनी चैम्पियन

    बेंगलुरु/केंगेरी। सीरवी समाज ट्रस्ट केंगेरी के तत्वावधान में आयोजक श्री आईजी स्पोर्ट्स क्लब केंगेरी (बी) की ओर से वॉलीबॉल प्रतियोगिता रविवार 30 जुलाई 2023...

    कहां और कैसे आप कोविड संक्रमण की पकड़ में आ सकते हैं

    महामारी को अस्तित्व में आए दो साल हो चुके हैं और हम में से अधिकांश लोग इससे तंग आ चुके हैं। कोविड मामलों की...

    तमिलनाडु में आज से रात्रि कर्फ्यू, रविवार को लॉकडाउन

    चेन्नई। तमिलनाडु में कोरोना मामलों में वृद्धि को देखते हुए राज्य सरकार ने गुरुवार से रात्रि कर्फ्यू लागू करने तथा वायरस के प्रसार को...

    रोहित और बुमराह बने विजडन क्रिकेटर ऑफ द ईयर

    लंदन। भारतीय कप्तान रोहित शर्मा और तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह को विजडन क्रिकेटर ऑफ द ईयर चुना गया है। उनके साथ डेवोन कॉन्वे, डेन...

    आस्था और एकता के प्रतीक हैं लोक देवता बाबा रामदेव : पी पी चौधरी

    चेन्नई। राजस्थान के पाली जिले से चेन्नई आए सांसद पीपी चौधरी ने साहूकारपेट स्थित बाबा रामदेव मंदिर में लोक देवता बाबा रामदेव मंदिर में...

    राजस्थान सरकार ने लिए कई महत्वपूर्ण नीतिगत निर्णय

    जयपुर। राज्य सरकार ने राज्य में कृषि विपणन तंत्र को मजबूत कर किसानों की आय बढ़ाने के उद्देश्य से राजस्थान स्टेट एग्रो इंडस्ट्रीज डवलपमेंट...

    इस तरह की और खबरें
    इस तरह की और खबरें

    बिग बैंग शून्य से कैसे उत्पन्न हो सकता है?

    बर्मिंघम। ‘‘आखिरी सितारा धीरे-धीरे ठंडा और फीका हो जाएगा।...

    चंद्रमा की सतह पर उतरने और इतिहास रचने की तैयारी में चंद्रयान-3

    बेंगलुरु, 23 अगस्त (भाषा)। भारत इतिहास रचने के करीब...

    बहुत दूर की आकाशगंगाओं को नजदीक से कैसे देख जा सकता है

    मेलबर्न। अब तक एक खगोलविद् के रूप में मेरे...

    तूफानों से भरा है बृहस्पति, क्या कभी थमेगा ग्रेट रेड स्पॉट

    मेलबर्न (ऑस्ट्रेलिया)। बृहस्पति हमारे सौर मंडल में सबसे बड़ा...

    स्पेसएक्स चार अंतरिक्ष यात्रियों को लेकर अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन रवाना हुआ

    केप केनवरल(अमेरिका)। स्पेसएक्स नासा के चार अंतरिक्ष यात्रियों को...

    समय यात्रा संभव हो सकती है, लेकिन केवल समानांतर समयरेखा के साथ

    ओंटारियो (कनाडा)। क्या आपने अतीत में कभी कोई गलती...