एमएसपी से दोगुना भाव पर बिक रही है कपास, ‘सफेद सोने’ के किसानों के चेहरे खिले

    Date:

    जयपुर। ‘सफेद सोना’ कही जानी वाली कपास फसल की कीमतों में रिकॉर्ड तेजी से इन दिनों देशभर के किसानों के चेहरे खिले हुए हैं।

    राजस्थान से लेकर पंजाब व हरियाणा से लेकर मध्य प्रदेश तक देश की प्रमुख मंडियों में कपास के भाव में जबर्दस्त उछाल आया है। खरगोन मंडी में इसी सप्ताह यह 11,115 रुपये प्रति क्विंटल तक पहुंच गए। यह कपास के 5,726 रुपये के न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) की तुलना में लगभग दोगुना भाव है।

    भारत दुनिया का सबसे बड़ा कपास उत्पादक देश है। जानकारों के अनुसार, बुवाई क्षेत्र में कमी और बेमौसमी बारिश के कारण इस साल कपास उत्पादन अपेक्षाकृत कम रहने का अनुमान है। वहीं घरेलू स्तर पर स्पिनिंग मिलों व अंतरराष्ट्रीय स्तर पर बढ़ती मांग से इसके भावों में जबर्दस्त उछाल आया है।

    सफेद सोने की खान कही जाने वाली मध्य प्रदेश की खरगोन मंडी में इसी सप्ताह कपास की एक ढेरी रिकॉर्ड 11,115 रुपये प्रति क्विंटल के हिसाब से बिकी। वहीं नरमे कपास की बंपर फसल के कारण ‘कपास पट्टी’ से विख्यात राजस्थान की गंगानगर मंडी में शुक्रवार को नरमे की एक ढेरी की बोली 10,501 रुपये प्रति क्विंटल लगी। भाव के लिहाज से यह भी अब तक का रिकॉर्ड है।

    - Advertisement -

    केंद्र सरकार ने 2021-22 विपणन सत्र के लिए कपास का समर्थन मूल्य 5,726 रुपये से लेकर 6,025 रुपये प्रति क्विंटल तय किया है। सरकार की ओर से भारतीय कपास निगम एमएसपी पर खरीद करता है। लेकिन खुले बाजार में व्यापारी इससे कहीं अधिक दाम देकर कपास खरीद रहे हैं।

    खरगोन के कृषि उपनिदेशक एम एल चौहान ने कहा, ‘‘मंडी में कपास की 11,511 रुपये प्रति क्विंटल की बोली … इस सीजन और संभवत: अब तक की सबसे ऊंची बोली है।’’

    गंगानगर कृषि उपज मंडी समिति के सचिव शिव सिंह भाटी के अनुसार, शुक्रवार को नरमे कपास की एक ढेरी 10,501 रुपये प्रति क्विंटल के भाव बिकी।

    पड़ोसी राज्य पंजाब में भी हालात कमोबेश ऐसे ही है। फाजिल्का आढ़तिया संघ के जिला अध्यक्ष अनिल नागौरी ने कहा, ‘‘उत्पादन कम और मांग ज्यादा होने के कारण कपास के भावों में उछाल है। हमारे इलाके में भी भाव 9,600 रुपये प्रति क्विंटल के आसपास हैं।’ निश्चित रूप से कीमतों में तेजी से किसान खुश हैं।

    - Advertisement -

    गंगानगर के प्रमुख कपास कारोबारी संजय महिपाल ने बताया, ‘‘कपास निगम के पास कपास का भंडार नहीं है। उत्पादन कम रहने की आशंका के बीच घरेलू मिलों की बढ़ी मांग से कपास कीमतों में उछाल है और इसका भारी फायदा किसानों को मिल रहा है।’’

    कपास निगम के अनुमानित आंकड़ों के अनुसार, मौजूदा 2021-22 विपणन वर्ष में देश में 120.69 लाख हेक्टेयर में कपास की बुवाई हुई है, और उत्पादन 362.18 लाख गांठ रहने का अनुमान है। हालांकि, महिपाल ने कहा कि मंडियों में आवक व व्यापारियों को मिल रही सूचनाओं के हिसाब से वास्तविक उत्पादन इससे कहीं कम रहेगा। इसकी एक बड़ी वजह समय पर बारिश नहीं होने व बेमौसम की बरसात से फसल को हुआ नुकसान है।

    उल्लेखनीय है कि देश के नौ प्रमुख कपास उत्पादक राज्यों में गुजरात, महाराष्ट्र, आंध्र प्रदेश, कर्नाटक, तमिलनाडु, मध्यप्रदेश, राजस्थान, पंजाब व हरियाणा शामिल हैं। कपास उत्पादक व खपत समिति (सीओसीपीसी) के आंकड़ों के अनुसार, देश में 2020-21 में 130.07 लाख हेक्टेयर में कपास की खेती हुई और उत्पादन 353.84 लाख गांठ (अनंतिम) रहा। मौजूदा विपणन वर्ष में यह 362.18 लाख गांठ रहने का अनुमान है। कपास विपणन सत्र अक्टूबर से सितंबर तक चलता है और एक गांठ 170 किलो की होती है। कपास के हाइब्रिड रूप को पंजाब, हरियाणा व राजस्थान में नरमा कहा जाता है।

    हालांकि, कपास के भावों में इस तेजी से जहां किसानों को फायदा है वहीं कपास आधारित उत्पादों के दाम बढ़ने लगे हैं। नागौरी के अनुसार, बिनौला जो कभी 3,000 रुपये क्विंटल हुआ करता था इन दिनों 4,400 रुपये प्रति क्विंटल तक बिक रहा है। इसके साथ ही रूई, धागे जैसे अन्य उप-उत्पाद भी महंगे होने लगे हैं। संजय महिपाल के अनुसार, सरकारी स्तर पर कुछ कदम उठाए जाने की जरूरत है ताकि कीमतों में इस तेजी का नुकसान किसी को नहीं हो।

    - Advertisement -

    उन्होंने कहा कि स्थानीय कीमतों में तेजी भारत से कपास निर्यात को प्रभावित कर सकती है। भारतीय कपास के प्रमुख आयातकों में बांग्लादेश, चीन व वियतनाम हैं, जो यहां दाम बढ़ने पर अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया जैसे देशों की ओर रुख कर सकते हैं।

    Subscribe to our Newsletter

    To be updated with all the latest news, offers and special announcements.

    कोई जवाब दें

    कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
    कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

    पोस्ट साझा करें:

    एक नजर इन पर भी...

    अबू धाबी में टैंकर विस्फोट के पीछे ड्रोन हमला हो सकता है: पुलिस

    दुबई। अबू धाबी में तेल के तीन टैंकरों में ड्रोनों की मदद से विस्फोट किये गये हो सकते हैं और संभवत: इसकी वजह से...
    आईपंथ के धर्मगुरू दीवान माधवसिंह सरथुर बाली पहुंचे, काग परिजनों के साथ जताई संवेदना

    आईपंथ के धर्मगुरू दीवान माधवसिंह सरथुर बाली पहुंचे, काग परिजनों के साथ जताई संवेदना

    बाली। बाली सोताला के सरथुर गांव में आईपंथ के धर्म गुरु श्री माधवसिंह दीवान ने कहा कि भारत के तिरुपति, साऊथ, दक्षिणी भारत मारवाड़,...

    सीरवी विकास संस्था, परगना सुमेरपुर का दुसरा कैरियर काउंसलिंग, गाइडेंस एवं मोटिवेशनल सेमिनार संपन्न

    पाली। अपने देश भारत (India) में प्रतिभा की कमी नहीं है। विशिष्ट प्रतिभाओं की जन्म स्थली भारत देश ऐसे ही विश्व गुरु नहीं कहलाता है।...

    राजनीतिक मतभेद इतना कैसा कि प्रधानमंत्री मोदी की जान से खेल जाए कांग्रेस :...

    भोपाल/वार्ता। मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कांग्रेस शासित पंजाब में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सुरक्षा में चूक के मुद्दे पर कांग्रेस अध्यक्ष...

    नेरकुन्ड्रम में आईपंथ के धर्मगुरु का स्वागत

    चेन्नई। चेन्नई में सीरवी समाज ट्रस्ट नेरकुन्ड्रम के तत्वावधान में मेट्टुकुप्पम स्थित आईमाता मंदिर परिसर में सीरवी समाज के धर्मगुरु माधोसिंह दीवान का स्वागत...

    उत्तरप्रदेश में आश्चर्यजनक चुनाव परिणाम आएंगे : कमलनाथ

    भोपाल। मध्यप्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष एवं प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने सोमवार को कहा कि पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी के शानदार प्रयासों एवं भाजपा...
    वोपारी में सीरवी समाज वडेर की प्राणप्रतिष्ठा 7 जून को, सीरवी समाज वोपारी प्रवासी बंधु चेन्नई की बैठक संपन्न

    वोपारी में सीरवी समाज वडेर की प्राणप्रतिष्ठा 7 जून को, सीरवी समाज वोपारी प्रवासी...

    चेन्नई। वोपारी गांव श्री आई माताजी (वडेर) प्राण प्रतिष्ठा महोत्सव की तैयारियां 31 मई से शुरू होगा सात दिवसीय कार्यक्रम प्राण प्रतिष्ठा 7 जून...

    मूक बधिर युवती से बलात्कार, अज्ञात व्यक्ति के खिलाफ मामला दर्ज

    जयपुर। राजस्थान के चित्तौड़गढ़ जिले में एक मूक बधिर युवती के साथ दुष्कर्म करने के आरोप में अज्ञात व्यक्ति के खिलाफ मामला दर्ज किया...
    शिक्षा के क्षेत्र में विदेशों में धाक जमा रही है सीरवी समाज की प्रतिभाएं

    शिक्षा के क्षेत्र में विदेशों में धाक जमा रही है सीरवी समाज की प्रतिभाएं

    समाज की प्रतिभाएं शिक्षा के क्षेत्र में विदेशों में धाक जमा रही है, यह समाज के लिए बहुत ही गर्व की बात है!उदयपुर/सीरवी न्यूज़।...

    इस तरह की और खबरें
    इस तरह की और खबरें

    कोविड वैक्सीन लेने से बचने के लिए नारियल के पेड़ पर चढ़ा आदमी

    पुड्डुचेरी/दक्षिण भारत। पुड्डुचेरी के पास कोनेरीकुप्पम गांव में उस...

    अमित शाह ने भगवान राम की 108 फुट ऊंची प्रतिमा की आधारशिला रखी

    कुरनूल (आंध्र प्रदेश), 23 जुलाई (भाषा) केंद्रीय गृह मंत्री...

    फ़ाइनल फ्रंटियर फतह करने उतरेगी टीम इंडिया

    सेंचुरियन। ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड में सीरीज जीत हासिल कर...

    कानपुर की त्रिमूर्ति फ्रेगरेंस के यहां 150 करोड़ की नकदी बरामद

    नयी दिल्ली। पान मसाला और तंबाकू उत्पाद बनाने वाली...

    हम भविष्य के संघर्षों की कुछ झलकियां देख रहे हैं : सेना प्रमुख

    नयी दिल्ली। सेना प्रमुख जनरल एमएम नरवणे ने चीन...

    भारत जल्द ही पांच लाख करोड़ डॉलर की अर्थव्यवस्था बनेगा : मोदी

    जोहानिसबर्ग, 22 अगस्त (भाषा) प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मंगलवार...

    पद छोड़ने पर मजबूर किया गया तो और भी खतरनाक हो जाऊंगा: इमरान खान

    इस्लामाबाद। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने रविवार को...

    बलेपेट बडेर में उत्साहपूर्वक मनाया गया होली महोत्सव

    बेंगलूरु। सीरवी समाज बलेपेट बडेर परिसर में गुरूवार रात...

    बचपन में एक युवा ने गलत तरीके से छुआ था : कंगना रनौत

    मुंबई। बाल शोषण और यौन दुर्व्यवहार का जिक्र करते...

    विक्रम वेधा में तीन लुक में नजर आएंगे ऋतिक रौशन

    मुंबई। बॉलीवुड के माचो हीरो ऋतिक रौशन अपनी आने...

    शोपियां, पुलवामा में दो मुठभेड़ों में चार आतंकवादी मारे गए

    श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर के शोपियां और पुलवामा जिलों में शनिवार...